मना लूँगा आपको रुठकर तो देखो

By | July 15, 2019

 

detroweb

मना लूँगा आपको रुठकर तो देखो,
जोड़ लूँगा आपको टूटकर तो देखो।
नादाँ हूँ पर इतना भी नहीं,
थाम लूँगा आपको छूट कर तो देखो।

 

 

detroweb

एक जुर्म हुआ है हम से एक यार बना बैठे हैं

कुछ अपना उसको समझ कर सब राज़ बता बैठे हैं

फिर उसकी प्यार की राह में दिल ओर जान गवा बैठे हैं

वो याद बहुत आते हैं जो हुमको भुला बैठे हैं

 

 

detroweb

याद रखने के लिए आपकी कोई चीज चाहिए,

आप नहीं तो आपकी तस्वीर चाहिए,

आपकी तस्वीर हमारा दिल बहला न सकेगी,

क्योकि वो आपकी तरह मुस्कुरा न सकेगी!!!

 

 

detroweb

चुपके चुपके पहले वो ज़िन्दगी में आते हैं;

मीठी मीठी बातों से दिल में उतर जाते हैं;,

बच के रहना इन हुस्नवालों से यारो;

इन की आग में कई आशिक जल जाते हैं।

 

 

detroweb

जब रात को आपकी याद आती है
सितारों में आपकी तस्वीर नज़र आती है
खोजती है निग़ाहें उस चेहरे को
याद में जिसकी सुबह हो जाती है !!

 

 

 

detroweb

बहाने बहाने से हम आपकी बात करते है
आईने के सामने आपसे मुलाकात करते है
इतनी बार तो आप सांस भी नहीं लेते होंगे
जितना हम आपको एक पल मे याद करते है

 

 

detroweb

दिलों में खुंदक, चेहरों पर मुस्कान रखते हैं

वो नज़रों से छुपा कर, तीर कमान रखते हैं

मौका मिलते ही उतार देते हैं तीर दिल में,

ग़ज़ब है कि फिर भी, वो शीरी ज़ुबान रखते हैं

कैसा ये शहर यहां हर तरफ यही शोर है,

कि यहाँ के लोग अपनी जेबों में, ईमान रखते हैं

किसी भूखे को एक निबाला न दे सके कभी,

फिर भी ज़न्नत पाने का, वो अरमान रखते हैं

 

 

 

detroweb

कितनी मोहब्बत है तुमसे मे बता नहीं सकती
अपनी चाहत  मैं तुम्हारे लिए जता नहीं सकती
तुम भी तो समझो देखकर मेरी इन निगाहो मे
ये पलके झुकाकर भी मै कुछ छुपा नहीं सकती

 

 

 

detroweb

सपनो की दुनिया में हम खोते गए
होश में थे फिर भी मदहोश होते गए
जाने क्या जादू था उस अजनबी चेहरे में
खुद को बहुत रोका फिर भी उसके होते गए

 

 

 

detroweb

तेरी हर अदा मोहब्बत सी लगती है,

एक पल की जुदाई मुद्दत सी लगती है,

पहले नही सोचा था अब सोचने लगे है हम,

जिंदगी के हर लम्हों में तेरी ज़रूरत सी लगती है

 

 



8 thoughts on “मना लूँगा आपको रुठकर तो देखो

  1. arjun kumar rai

    हर खुशी दिल के करीब नहीं होती मोहब्बत भी गम से शरीक नहीं होती ऐसी दोस्ती को सजा कर रखना दोस्ती हर किसी को नसीब नहीं होती

    Reply
  2. Rohit Dubey

    तकलीफ और मोहोब्बत
    दोनो इन्सान को आंसू देते है,
    लेकिन फर्क इतना है की
    तकलीफ कभी न कभी ख़त्म हो जाती है,
    और मोहोब्बत कभी ख़त्म नहीं होती है !!

    Reply
  3. Salman Salman Jan

    Mohabbat barsade to sawan aaya hain
    Tere aur mere Milne ka mausam aaya hain
    sab se chupa ke tujhe seeny se lagana hain itna
    Inta pyar tujhpe pahli bar aaya hain… Iloveyou . Simran walia

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.