पलकों को जब जब आपने झुकाया है

By | December 6, 2018

detroweb

पलकों को जब-जब आपने झुकाया है,
बस एक ही ख्याल दिल में आया है,
कि जिस खुदा ने तुम्हें बनाया है,
तुम्हें धरती पर भेजकर वो कैसे जी पाया है।

 

 

detroweb

तुम हक़ीकत नहीं हो हसरत हो,
जो मिले ख़्वाब में वही दौलत हो,
किस लिए देखती हो आईना,
तुम तो खुदा से भी ज्यादा खूबसूरत हो।

 

 

 

detroweb

फूल खिलते हैं बहारों का समा होता है,
ऐसे मौसम में ही तो प्यार जवां होता है,
दिल की बातों को होठों से नहीं कहते,
ये फ़साना तो निगाहों से बयाँ होता है।

 

 

 

detroweb

हसरत है सिर्फ तुम्हें पाने की,
और कोई ख्वाहिश नहीं इस दीवाने की,
शिकवा मुझे तुमसे नहीं खुदा से है,
क्या ज़रूरत थी, तुम्हें इतना खूबसूरत बनाने की !!

 

 

 

detroweb

दर्द हैं दिल में पर इसका ऐहसास नहीं होता,
रोता हैं दिल जब वो पास नहीं होता,
बरबाद हो गए हम उनकी मोहब्बत में,
और वो कहते हैं कि इस तरह प्यार नहीं होता!

 

 

 

detroweb

देख के तेरी आँखों में , पल पल जिया हु में।
तुझे देख किसी के बाहों मे, हर पल मरा हु मैं।
साथ तेरा जब तक था, जिंदगी से वफ़ा मैं करता था।
अब साथ नही जब तेरा , मैं वफ़ा मौत से करता हूँ।

 

 

 

 

detroweb

मत रहो दूर हमसे इतना के अपने फैसले पर अफसोस हो जाये…
कल को शायद ऐसी मुलाकात हो हमारी…
के आप हमसे लिपटकर रोये और हम ख़ामोश हो जाये..

 

 

 

detroweb

सांस थम जाती है पर जान नहीं जाती,

दर्द होता है पर आवाज़ नहीं आती,

अजीब लोग है इस ज़माने मैं,

कोई भूल नहीं पाता और किसी को याद नहीं आती.

 

 

 

detroweb

जिनकी आँखे आंसुओं से नम नहीं,
क्या समझते हो उसे कोई गम नहीं,
तुम तड़प कर रो दिए तो क्या हुआ,
गम छुपा के हॅसने वाले भी कम नहीं.



2 thoughts on “पलकों को जब जब आपने झुकाया है

Leave a Reply