समझा दो अपनी यादो को वो बिन बुलाये पास आया करती है

myshayaris

समझा दो अपनी यादो को,

वो बिन बुलाये पास आया करती है,

आप तो दूर रहकर सताते हो मगर,

वो पास आकर रुलाया करती है !!

 

 

 

myshayaris

नज़र ने नज़र से मुलाक़ात कर ली,

रहे दोनों खामोश पर बात करली,

मोहब्बत की फिजा को जब खुश पाया,

इन आंखों ने रो रो के बरसात कर ली !!

 

 

 

 

myshayaris

उलफत का अकसर यही दस्तूर होता है,

जिसे चाहो वही दूर होता है.

दिल टुट कर बिखरते हैं इस कदर,

जैसे कोई काँच का खिलोना चूर चूर होता है

 

 

 

myshayaris

कागज़ पे हमने ज़िन्दगी लिख दी,

अशकों से सींच कर खुशी लिख दी,

दर्द जब हमने उबारा लफज़ो पे,

लोगो ने कहा वाह क्या गज़ल लिख दी !!

 

 

 

myshayaris

एक टूटे हुए दिल की आवाज़ मुझे कहिए
सुर जिसमें है सब गम के, वो साज़ मुझे कहिए
मैं कौन हूँ और क्या हूँ किसके लिए ज़िंदा हूँ
मैं खुद भी नही समझी वो राज़ मुझे कहिए

 

 

 

कोई खुशियों की चाह में रोया

कोई दुखों की पनाह में रोया..

अजीब सिलसिला हैं ये ज़िंदगी का..

कोई भरोसे के लिए रोया..

कोई भरोसा कर के रोया..

 

 

myshayaris

ज़ख़्म देने की आदत नहीं हमको;
हम तो आज भी वो एहसास रखते हैं;
बदले बदले से तो आप हैं जनाब;
जो हमारे अलावा सबको याद रखते हैं।

 

 

myshayaris

 

उसकी ही मुहब्बत के मारे हैँ हम,
उसकी ही याद के सहारे हैँ हम,
दुनिया जीत कर करना क्या है अब,
जिसे दुनिया से जीता था आज उसी से हारे हैँ हम

 

 

 

 

myshayaris

ये मौसम भी कितना प्यारा है, हवाएं भी करती कुछ दिलकश इशारा है
क्यों न मचले अरमान हमारे, वर्षा की बूंदों से मन में हर्षो उलाश छाया है
बेक़रार है धड़कन, तुमसे मिलन के ख्याल से मन पुलकित हो आता है
जरा सम्हलो इनके जज्बातों को, किसी चाहने वाले ने दिल से पुकारा है

 

 

 

 

myshayaris

जादू है उसकी हर एक बात मे,

याद बहुत आती है दिन और रात मे,

कल जब देखा था मैने सपना रात मे,

तब भी उसका ही हाथ था मेरे हाथ मे…

 

One Comment:

  1. Im so happy i was listen to this blog so i wont to join this site

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.